ग़ज़ल

मन को अपने बीमार न कर
हार कभी स्वीकार न कर

अच्छे काम भी हैं दुनिया में
लाशों का व्यापार न कर

मन को जीत न पाए तो
तन पर भी अधिकार न कर

बीत गया वो कब आता है
वक़्त को यूँ बेकार न कर

पूरा करना संभव न हो
ऐसा कोई इकरार न कर

दीवाना है सच बोलेगा
यादव पर ऐतबार न कर

No comments:

Post a Comment