पत्रिका की समीक्षा

दैनिक ट्रिब्यून में बाबूजी का भारतमित्र पत्रिका की समीक्षा

पत्रिकाएं मिलीं

Posted On April - 15 - 2012
अरुण नैथानी

बाबूजी का भारत मित्र

हरियाणा की अर्धवार्षिक साहित्यिक पत्रिका 'बाबूजी का भारत मित्र' के दूसरे अंक में साहित्य की तमाम विधाओं की रचनाओं का सुरुचिपूर्ण संकलन है। समीक्ष्य अंक में गज़ल-नज़्म, दोहे, नवगीत, गीत, कविताओं का स्तरीय संकलन किया गया है। स्मृति-अशेष स्तंभ में जहां अदम गोंडवी व शहरयार का भावपूर्ण स्मरण है, वहीं रिपोर्ताज शैली में कुछ पठनीय रचनाएं संकलित हैं। इसी के साथ कथा संसार में मर्मस्पर्शी कहानियां संकलित हैं। पुस्तक का आवरण खासा प्रेरक है। कुल मिलाकर अंक पठनीय है।०पत्रिका : बाबूजी का भारत मित्र ०संपादक : रघुविन्द्र यादव ०प्रकाशक : प्रकृति भवन, नीरपुर, नारनौल-123001 ०मूल्य : रुपये 15/-.


हरियाणा की अर्धवार्षिक साहित्यिक पत्रिका 'बाबूजी का भारत मित्र' के दूसरे अंक में साहित्य की तमाम विधाओं की रचनाओं का सुरुचिपूर्ण संकलन है। समीक्ष्य अंक में गज़ल-नज़्म, दोहे, नवगीत, गीत, कविताओं का स्तरीय संकलन किया गया है। स्मृति-अशेष स्तंभ में जहां अदम गोंडवी व शहरयार का भावपूर्ण स्मरण है, वहीं रिपोर्ताज शैली में कुछ पठनीय रचनाएं संकलित हैं। इसी के साथ कथा संसार में मर्मस्पर्शी कहानियां संकलित हैं। पुस्तक का आवरण खासा प्रेरक है। कुल मिलाकर अंक पठनीय है।०पत्रिका : बाबूजी का भारत मित्र ०संपादक : रघुविन्द्र यादव ०प्रकाशक : प्रकृति भवन, नीरपुर, नारनौल-123001 ०मूल्य : रुपये 15/-.

No comments:

Post a Comment