बाबूजी का भारतमित्र पत्रिका का दोहा विशेषांक


पत्रिका "बाबूजी का भारतमित्र" का सितंबर 2012 अंक (दोहा विशेषांक) के रूप में प्रकाशित हुआ है| इसमें सौ से भी अधिक दोहकारों के दोहों के अलावा दोहे पर बहुत ही स्तरीय आलेख प्रकशित हुए हैं| डॉ. अनंतराम मिश्र का आलेख "दोहे की आत्मकथा" एक बेहतरीन आलेख है| वहीँ देवेन्द्र शर्मा इन्द्र, निदा फ़ाज़ली, पदम्भूषण नीरज, चन्द्रसेन विराट, दिनेश शुक्ल, राधेश्याम शुक्ल, कुंदन सिंह सजल, हस्तीमल हस्ती जैसे वरिष्ठ दोहकारों के साथ-साथ नयी पीढ़ी के भी दर्जनों दोहकारों को इसमें स्थान मिला है|
कुल 128 पृष्ठ वाले इस विशेषांक की कीमत भी नाममात्र ही है और इसे ऑनलाइन भी पढ़ा जा सकता है| पत्रिका का आजीवन शुल्क मात्र 1100 रूपये है| 

पत्रिका नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भी पढ़ी जा सकती है-http://www.scribd.com/doc/105926320/Babu-Ji-Ka-Bharatmitra-Doha-Viseshank

No comments:

Post a Comment