डॉ.यायावर दुबई में सम्मानित

अन्तरराष्ट्रीय साहित्य कला मंच का तीसवां वार्षिक समारोह दुबई में 5 जून से 9 जून तक आयोजित हुआ| जिसमें 6 जून को सरस्वती सभागार दुबई ग्रैंड होटल दुबई में डॉ.राम सनेहीलाल शर्मा 'यायावर' को सम्मानित कर "साहित्य श्री" की मानद उपाधि प्रदान की गई|
समारोह के दौरान 'विश्व पटल पर हिंदी' विषय पर संगोष्ठी हुयी जिसका सफल सञ्चालन डॉ. यायावर ने किया| संगोष्ठी में भारत के 10 प्रदेशों के अलावा 6 अन्य देशों के प्रतिनिधियों ने भी अपने आलेख प्रस्तुत करते हुए हिंदी को भविष्य की भाषा बताया|
संगोष्ठी में डॉ.पूर्णिमा वर्मन मुख्यातिथि थीं और अध्यक्षता डॉ.रामावतार शर्मा ने की| इस अवसर पर अमेरिका के प्राण जग्गी और मेजर शेर बहादुर विशिष्ठ अतिथि थे| दुबई के मुख्या वक्ता डॉ.त्रिलोक नाथ थे|
6 जून को मंच के संस्थापक अध्यक्ष डॉ.महेश दिवाकर के सञ्चालन में विभिन्न साहित्यकारों को सम्मानित किया गया| डॉ. यायावर को उनकी साहित्य साधना के उपलक्ष्य में 'साहित्य श्री' की मानद उपाधि प्रदान करके सम्मानित किया गया|
उल्लेखनीय है कि डॉ यायावर की अब तक 21 मौलिक और 10 सम्पादित कृतिया प्रकाशित हो चुकी हैं| शताधिक कृतियों में उनकी लेखकीय सहभागिता है|

No comments:

Post a Comment