हाइकु-दोहे

प्यासी धरती/ खग दुखित रोते/ बढ़ती भूख।
मिटते प्राणी/ है चकित नाहर/ घटा रसूख॥

घिरा अँधेरा/ डर नहीं मनुज/ जला ले दीप।
छले न जाना/ ध्यान से पग धर/ लक्ष्य समीप॥

सावन आया/ खिल उठी बगिया/ मस्त मयूर।
जगी उमंगें/ प्रीत की रिमझिम/ चढ़ा सुरूर॥

हाय गरीबी/ नोंचती तन-मन/ करे हताश।
जला न चूल्हा/ रो पड़े बरतन/ बुझती आस॥

-कुमार गौरव अजीतेन्दु
शाहपुर, दानापुर (कैन्ट)
पटना - ८०१५०३
बिहार

1 comment:

  1. मेरी रचना को पत्रिका में स्थान देने के लिए "विविधा" का हृदय से आभार.......

    ReplyDelete