मिथलेश वामनकर के दोहे

मिथलेश वामनकर के दोहे

लाख लिखो यशगान तुम, मर्यादा के नाम।
सिर्फ विभीषण खोजते, अक्सर देखे राम।।
2
लोग मिले निष्ठुर सदा, देव मिले पाषाण।
केवल भिक्षुक ही रहे, देवालय के प्राण।।
3
लेकर आया राजपथ, जाने कैसी छाँव।
जब-जब चलते हैं पथिक, तब-तब जलते पाँव।।
4
खुश थे रावण को सभी, अग्रि कूप में डाल।
ज़ख्म हरे ले जानकी, देख रही चौपाल।।
5
केसर से बारूद की, रह-रह आती गंध।
घाटी के बन्दूक से, ऐसे हैं अनुबंध।।
6
निश्चित मानो टूटना, तब प्यासे का ख्वाब।
जब सागर के वंशधर, बन जाएँ तालाब।।
7
भूख गरीबी के लिए, निश्चित किया किसान।
सोचो बाकी लोग हैं, कितने चतुर सुजान।।
8
फिर सत्ता के गीत में, खोये हैं मतिमंद।
बिखरे हैं फुटपाथ पर, लोकतंत्र के छंद।।
9
केवल देखे आपने, मेरे शब्द अधीर।
मैंने भोगी है मगर, अक्षर-अक्षर पीर।।
10
अब चिंतित बेचैन-सी, रहती सारी रात।
सीता ने जब से सुनी, रामराज की बात।।
11
कोई कहता पक्ष में, कोई कहे विरुद्ध।
कलयुग में उपलब्ध हैं, सबको अपने बुद्ध।।
12
आँखें ही बेशर्म तो, घूँघट से क्या आस।
नग्र मिला हर आदमी, पहने सभ्य लिबास।।
13
आई सत्ता की कलम, वर्तमान के पास।
बैठे-बैठे अब वही, बदल रहे इतिहास।।
14
दीपक के विश्वास को, आज अचानक तोड़।
देख हवा ने कर लिया, आँधी से गठजोड़।।
15
जहाँ धरा के वक्ष पर, जंगल हो आबाद।
बादल का होगा वहीं, वर्षा में अनुवाद।।
16
खलिहानो के प्रश्र पर, क्या दे खेत जवाब।
मंडी में बेसुध पड़े, पगडंडी के ख्वाब।।
17
सीख रहा हो जब हृदय, पत्थर से व्यवहार।
हँसना भी बेकार तब, रोना भी बेकार।।
18
बुझते चुल्हे से उठी, फिर झुग्गी में गंध।
फिर छप्पर ने कर लिया, वर्षा से अनुबंध।।
19
नार बनी है नीर से, या नारी से नीर।
बहते काजल ने लिखी, युगों-युगों की पीर।।



3 comments:

  1. टंकण त्रुटि निवेदन-
    दोहा क्रमांक 2
    भिक्षक-भिक्षुक

    ReplyDelete
  2. टंकण त्रुटि निवेदन-
    दोहा संख्या 12
    नग्र-नग्न

    ReplyDelete
  3. दोहा संख्या -4
    अग्रि-अग्नि

    ReplyDelete