रघुविन्द्र यादव को तृतीय पुरस्कार

ओपन बुक्स ऑनलाइन द्वारा आयोजित चित्र से काव्य प्रतियोगिता में हरियाणा के दोहाकार रघुविन्द्र यादव को तृतीय पुरस्कार मिला|  
राष्ट्रीय स्तर पर ऑनलाइन आयोजित इस प्रतियोगिता में देशभर के रचनाकारों ने भाग लिया और अपनी रचनाएं प्रस्तुत की| निर्णायक मंडल ने सभी रचनाओं का अवलोकन करने उपरांत श्री अरुण निगम की रचना को प्रथम और रघुविन्द्र यादव की रचना को तीसरा स्थान प्रदान किया|
श्री यादव को नगद पुरस्कार के साथ प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किया जाएगा| रघुविन्द्र यादव हरियाना के एकमात्र युवा कवि हैं जिनकी दोहाकार के रूप में राष्ट्रीय स्तर पर पहचान है| वे बाबूजी का भारतमित्र नामक साहित्यिक पत्रिका के संपादक हैं और उनकी दोहा कृति "नागफनी के फूल" बेहद चर्चित रही है|

http://www.bhaskar.com/article/HAR-OTH-1793857-2814840.html

ओपन बुक्स ऑनलाइन द्वारा आयोजित चित्र से काव्य प्रतियोगिता में हरियाणा के दोहाकार रघुविन्द्र यादव को तृतीय पुरस्कार मिला|  
राष्ट्रीय स्तर पर ऑनलाइन आयोजित इस प्रतियोगिता में देशभर के रचनाकारों ने भाग लिया और अपनी रचनाएं प्रस्तुत की| निर्णायक मंडल ने सभी रचनाओं का अवलोकन करने उपरांत श्री अरुण निगम की रचना को प्रथम और रघुविन्द्र यादव की रचना को तीसरा स्थान प्रदान किया|
श्री यादव को नगद पुरस्कार के साथ प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किया जाएगा| रघुविन्द्र यादव हरियाना के एकमात्र युवा कवि हैं जिनकी दोहाकार के रूप में राष्ट्रीय स्तर पर पहचान है| वे बाबूजी का भारतमित्र नामक साहित्यिक पत्रिका के संपादक हैं और उनकी दोहा कृति "नागफनी के फूल" बेहद चर्चित रही है|

No comments:

Post a Comment