विविधा

विविधा : हिंदी की साहित्यिक पत्रिका

Wednesday, November 22, 2023

हाँ मैं गंवार हूँ - रघुविन्द्र यादव

हाँ मैं गंवार हूँ

हाँ मैं गंवार हूँ
आज भी रहता हूँ अपने माँ-बाप के साथ
उनके ही बनाये घर में|
मैं नहीं बन सका आधुनिक
न शहर में जाकर बसा और
न ही माँ-बाप को भेजा अनाथ आश्रम|

हाँ मैं गंवार हूँ
मेरे घर में नहीं हैं चमचमाती टाइलें
महँगे कालीन या रेशमी पर्दे|
मेरा आँगन आज भी है कच्चा,
जिसकी मिट्टी में खेलकर ही
मेरे बच्चे बड़े हुए हैं|
मैंने उन्हें नहीं भेजा किसी 'क्रेच' में
नहीं रखी उनके लिए आया
मेरी माँ ने ही दिये हैं उन्हें संस्कार|

हाँ मैं गंवार हूँ
मेरे घर में नहीं है
विदेशी नस्ल का कुत्ता,
जिसे मैं बाज़ार से लाकर
गोश्त खिला सकूं|
मेरे दरवाजे पर बैठते हैं
आज भी तीन आवारा कुत्ते
जिन्हें हम डालते हैं बासी
और बची हुई रोटियाँ|
वे करते हैं, जी-जान से पहरेदारी|

हाँ मैं गंवार हूँ
मेरे घर में नहीं है बोनसाई|
मेरे आँगन में तो आज भी खड़े हैं दर्जनों फल-फूलों के देशी पौधे

नीम, इमली, शहतूत,

तुलसीदल, दूब और ग्वारपाठा |

जिन पर दिनभर चहकती हैं गौरया
मंडराते हैं भंवरे और तितलियाँ,
कूकती हैं कोयले और फूलों का रस
चूसती हैं मधुमखियाँ|

हाँ मैं गंवार हूँ
मेरे घर में नहीं है महंगा
सजावटी सामान|
यहाँ तो हैं चिड़ियों के घोंसले,
मधुमखियों के छत्ते,
मोरों की विश्रामस्थली|

हाँ मैं गंवार हूँ
हमारे घर में नहीं है
नक्कासीदार फूलदान और
आयातित नकली फूल|
हमारे यहाँ तो क्यारियों में ही

गुलदाउदी, गुडहलगेंदा और सदाबहार खिलते हैं

रात को हारसिंगार झरते हैं|

हाँ मैं गंवार हूँ
मैंने नहीं पढाये अपने बच्चे कान्वेंट सकूलों मेंनहीं भेजे वातानुकूलित बसों में|
मेरे बच्चे तो पढ़े हैं
गाँव के बस अड्डे वाले स्कूल में|
अपनी प्रतिभा से बन गए हैं-
इंजिनियर और डॉक्टर|
उन्हें नहीं आते नखरे
आज भी चलते हैं सरकारी बसों में
ईमानदारी से निभाते हैं अपना फ़र्ज़|

हाँ मैं गंवार हूँ
हमने नहीं रखी है 'मेड
खाना बनाने और सफाई करने को
मेरी पत्नी ही करती है घर का काम|
प्यार से बनाती है खाना
और करती ही सफाई|

हाँ मैं गंवार हूँ
खुद ही करता हूँ अपने
पेड़-पौधों की नलाई-गुड़ाई|
बोता हूँ पौध और करता हूँ सिंचाई,
भरता हूँ सकोरों में पानी|
बच्चे खिलाते हैं पक्षियों को दाने|

हाँ मैं गंवार हूँ
नहीं होती हमारे यहाँ
कथाएं और प्रवचन,
नहीं होते जागरण और उपवास|
हम तो प्रकृति के उपासक हैं,
उसके हर रूप से है प्यार,
देते हैं सुरक्षा और करते हैं सम्मान|

हाँ मैं गंवार हूँ
मैं नहीं बनना चाहता
इतना सभ्य कि माँ-बाप को घर से निकालना पड़े,
बेटी को गर्भ में मारना पड़े,
दिखावे के लिए दहेज़ मांगना पड़े,
जायदाद के लिए भाइयों से दुश्मनी पालनी पड़े
मैं तो जीना चाहता हूँ सकून से
गंवार रहकर ही सही|

जिन्हें मेरा गंवार होना स्वीकार है
उनका बाँह फैलाकर स्वागत|
- रघुविन्द्र यादव

Sunday, October 22, 2023

समय से संवाद करते दोहों का संग्रह : देगा कौन जवाब

     “देगा कौन जवाब” श्री राजपाल सिंह गुलिया का नवीनतम दोहा संग्रह है| अयन प्रकाशन, दिल्ली द्वारा प्रकाशित इस 104 पृष्ठीय हार्ड बाउंड कृति में जीवन जगत से जुड़े विभिन्न विषयों पर उनके 552 दोहे संकलित किये गए हैं|

कवि ने दोहों के माध्यम से सामाजिक कुरीतियों, विसंगतियों और राजनैतिक विद्रूपताओं को जमकर बेनकाब किया है, वहीं मनुज के दोगलेपन, स्वार्थ लोलुपता और रिश्तों का खोखलापन भी उजागर किया है| दोहाकार ने बढती महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, और कानून व्यवस्था की बदहाली के साथ-साथ न्याय व्यवस्था पर भी सवाल खड़े किये हैं| श्री गुलिया ने भाई भतीजावाद, साम्प्रदायिकता और धर्म की सियासत पर भी अपनी लेखनी चलाई है| उन्होंने मीडिया और तकनीक के दुष्प्रभाव, पर्यावरण-प्रकृति, मदिरापान, बचपन आदि विषयों को भी अपना कथ्य बनाया है| संग्रह में कुछ नीतिपरक दोहे भी शामिल हैं|

स्वार्थ, आपाधापी और भाई भतीजावाद के इस दौर में आम आदमी के लिए कहीं कोई जगह नहीं है| वह हर दिन कुआँ खोदता है और पानी पीता है| उसकी जिन्दगी कोल्हू के उस बैल जैसी हो गई है, जो चलता तो दिनरात है, लेकिन पहुँचता कहीं नहीं है| कवि ने सुंदर दोहे के माध्यम से इसे व्यक्त किया है-

हुई अश्व-सी ज़िन्दगी, दौड़ रहे अविराम|

चबा-चबाकर थक गए, कटती नहीं लगाम||

जिस देश में कल तक माता-पिता को देव कहा जाता था, उसी देश में आज माँ-बाप को अपने ही बच्चों की उपेक्षा और प्रताड़ना झेलनी पड़ रही है| उन्हें प्रतिदिन दो रोटी के लिए ज़लील होना पड़ता है तो अंतिम समय में भी बच्चे उन्हें सहारा देने नहीं आते| कवि ने इस पीड़ा को दोहों के माध्यम से बखूबी प्रस्तुत किया है-

दे दी सुत को चाबियाँ, कहकर रीतिरिवाज|

उस दिन से वह हो गया, टुकड़ों को मुहताज||

संग्रह के लगभग सभी दोहे कथ्य और शिल्प दोनों ही दृष्टि से परिपक्व हैं| कवि ने मुहावरों, अलंकारों और प्रतीकों का प्रयोग करके दोहों की प्रभावोत्पादकता को बढाया है|

जली-कटी सुन आपकी, बही नयन यूँ पीर|

नम लकड़ी का आग में, रिसता है ज्यूँ नीर||

सहज सरल भाषा में रचे गए इन दोहों में कहीं-कहीं देशज और अंग्रेजी के शब्दों का प्रयोग भी प्रसंगवश हुआ है| कुछ दोहों का कथ्य, शिल्प ही नहीं, भाव और भाषा भी देखने लायक है-

उतना सुलगा यह जिया, जितना भीगा गात|

छनक-छनक कर चूड़ियाँ, जागी सारी रात||

पुस्तक का शीर्षक प्रासंगिक, आवरण आकर्षक और छपाई तथा प्रस्तुतिकरण सुंदर है| हाँ, प्रूफ की अशुद्धियाँ कुछ जगह अवश्य दृष्टिगोचर होती हैं| एक दो दोहों में शिल्पगत दोष भी रह गए हैं| कुल मिलाकर यह एक पठनीय दोहा संग्रह है जो पाठक को इस दौर की कडवी सच्चाईयों से रूबरू करवाता है|

                                                                  -रघुविन्द्र यादव


Saturday, October 14, 2023

दोहा छंद की प्रासंगिकता

दोहा सदाबहार छंद 

दोहा भारतीय सनातनी छंदों में से एक हैं, जो सदियों लम्बी यात्रा तय करके आज नया दोहा या समकालीन दोहा अथवा आधुनिक दोहा बन चुका है। जिस प्रकार भाषाओं का क्रमिक विकास होता है उसी प्रकार साहित्य की विधाओं का विकास भी क्रमिक रूप से ही होता है। इसकी कोई निश्चित अवधि नहीं होती। दोहा छंद के नया दोहा बनने की भी कोई अवधि निश्चित नहीं है। हाँ इतना अवश्य कहा जा सकता है कि नया दोहा बीसवीं सदी के अंतिम दो दशकों में फला-फूला। हालांकि इसकी नींव पहले ही रखी जा चुकी थी। मैथिलिशरण गुप्त जी का यह दोहा इस तथ्य की पुष्टि करता है-

        अरी! सुरभि जा, लौट जा, अपने अंग सहेज।

        तू है फूलों की पली, यह काँटों की सेज।।

दोहा की मारक क्षमता और अर्थ सम्प्रेषण की सटीकता के कारण यह सदाबहार छंद बना हुआ है| समय के साथ इसके कथ्य में परिवर्तन अवश्य होता रहा है, किन्तु इसके शिल्प में कोई बदलाव नहीं हुआ| दोहे की प्रभावी सम्प्रेषण क्षमता आज भी बरक़रार है| यह केवल मिथक है कि ग़ज़ल के शे’र जैसा प्रभाव किसी अन्य छंद में नहीं है| सच तो यह है कि यह रचनाकार की प्रतिभा और कौशल पर निर्भर करता है कि वह किस छंद में कितनी गहरी बात कह सकता है| समर्थ दोहाकार दोहे के चार चरणों अर्थात दो पंक्तियों में जो कह सकता है, वह अन्यत्र दुर्लभ है| यहाँ कवि चंदबरदाई के दोहे का उल्लेख करना समीचीन होगा-

    चार बांस चौबीस गज, अंगुल अष्ट प्रमान|

    ता ऊपर सुल्तान है, मत चूक्कै चौहान||

मात्र 48 मात्राओं में कवि ने अपने सम्राट मित्र पृथ्वीराज चौहान को न केवल सुल्तान की सही स्थिति (लोकेशन) बता दी, बल्कि अवसर नहीं चूकने का सन्देश भी दे दिया| इतना सटीक और प्रभावी सम्प्रेषण केवल दोहा जैसे छंद में ही संभव है| इतिहास में ऐसे अनेक उदाहरण हैं, जब एक दोहा ने पासा पलट दिया| कवि बिहारी का राजा जयसिंह को सुनाया गया यह दोहा भी इसी श्रेणी का है-

    ‘नहिं पराग नहिं मधुर मधु, नहिं विकास यहि काल|

    अली कली में ही बिन्ध्यो, आगे कौन हवाल||

      दोहा अपनी अनेक खूबियों के कारण सदियों से लोगों के मन मस्तिष्क में रचा बसा है| यह कभी सूफिओं और फकीरों का सन्देश वाहक बन जाता है तो कभी दरबारों की शोभा बन जाता है| कभी प्रेमी-प्रेमिका के बीच सेतु बन जाता है तो कभी जन-सामान्य की आवाज़-

    दोहा दरबारी बना, दोहा बना फ़कीर|

    नये दौर में कह रहा, दोहा जीवन पीर||/रघुविन्द्र यादव 

दोहे का कथ्य चाहे जो रहा हो यह हर दौर में महत्वपूर्ण रहा है, दोहा आज भी लोकप्रियता के शिखर पर है| मुझे यह कहने में कतई संकोच नहीं है कि दोहा लघुता में महत्ता समाये हुए है| दोहा भविष्य में भी सामर्थ्यवान कवियों का चहेता रहेगा ऐसी आशा और विश्वास है|

                                                            -रघुविन्द्र यादव


Saturday, September 23, 2023

सोच का अंतर

एक सेठ के पास बहुत पैसा था| समय अनुकूल था जिस भी काम में हाथ डालता था वारे-न्यारे हो जाते थे | पैसा बढ़ने के साथ-साथ सेठ का अहम और दिखावा भी बढ़ने लगा| लिहाजा शानोशौकत पर खूब खर्च करने लगा| जो छोटे व्यापारी उसके साथ मिलकर काम करते थे सबको एक-एक करके बाहर कर दिया| उसे लगने लगा था कि वही अपने धंधे का बेताज बादशाह है| 

लेकिन वक़्त सदा एक जैसा नहीं रहता| उसने एक बड़ा सौदा किया, जिसमें सारी जमा पूँजी लगा दी| किन्तु जिस पार्टी के साथ सौदा किया था उसके हिस्सेदारों में आपसी विवाद हो गया और मामला अदालत में चला गया| नतीजतन सौदा रुक गया और सेठ का पूरा पैसा जो पेशगी दिया था वह फंस गया| अब न सेठ के पास माल था और न पैसा| अपने छोटे हिस्सेदारों को वह पहले ही निकाल चुका था, इसलिए कोई धन देने वाला भी नहीं था| हालत यह हुई कि अपने खर्चे पूरे करने के लिए भी उसे अपनी संपत्तियां बेचनी पड़ रही थी| धीरे-धीरे काम-धंधा सब ठप्प हो गया तो घर बेचने की नौबत आ गई| 

सेठ की पत्नी खानदानी घर की बेटी थी| वह दिखावे पर खर्च करने की बजाये वक़्त-बेवक्त अपने नौकरों, पड़ोसियों और दूसरे ज़रुरतमंदों की मदद कर दिया करती| इसलिए लोग उनके प्रति प्रेम और श्रद्धा रखते थे| 

एक दिन जब सेठ ने सभी नौकरों को इकट्ठा करके बताया कि उनकी माली हालत अब ठीक नहीं है और वे अपना मकान-दुकान बेचकर किसी छोटे शहर में जा रहे हैं| इसलिए सभी अपना हिसाब करलें और कल से कोई काम पर न आये| यह बात आग की तरह शहर में फ़ैल गई | 

जिन लोगों की सेठानी ने वक़्त-बेवक्त मदद की हुई थी, उन तक जब यह बात पहुंची तो वे लोग अपनी जमा पूँजी और गहने लेकर हाजिर हो गए| बोले सेठानी जी, आपने हमारे बुरे वक़्त में मदद की थी, आज आपका वक़्त बुरा है हम भी कुछ सहयोग करना चाहते हैं| सेठानी ने खूब मना किया| लेकिन लोगों ने यह कहकर चुप कर दिया कि आपने दान दिया था, हम उधार दे रहे हैं, जब आपका फंसा हुआ पैसा मिल जाए तो सूद समेत दे देना, लेकिन लेना पड़ेगा| 

सेठानी के पास देखते-देखते लाखों रूपये जमा हो गए| उधर सेठ, जिसे मांगने पर भी शहर में कोई फूटी कौड़ी देने को तैयार नहीं था दूर बैठा यह सब खेल देख रहा था| जब लोग चले गए तो सेठ ने पूछा, यह सब क्या है? मैं तीन महीने से लोगों से पैसा मांग रहा हूँ, मुझे कोई सेठ भी पैसा देने को तैयार नहीं और तुम्हें जबरन वे लोग भी पैसा और गहना दे गए, जो हमारे ही टुकड़ों पर पलते थे|

सेठानी बोली- यह तुम्हारे दिखावे और अहम तथा मेरे दान और स्नेह का अंतर है सेठ जी| आपने दिखावे पर धन बहाया, मैंने लोगों की मदद की| आपने धनी होने का अहम पाला, मैंने इसे कुदरत की कृपा समझकर लोगों के साथ स्नेह बढाया| आपको लगता था लोग आपके टुकड़ों पर पल रहे हैं, मुझे लगता था उन्हीं की बदौलत हमारा व्यापार बढ़ रहा है| आपने जरूरत के समय धन लगाने वाले, अपने छोटे व्यापारी साथियों को भी दुत्कार दिया, मैंने जो रूठे हुए थे, उन्हें भी मनाया है|

सेठ जी, याद रखना जोहड़ का पानी पीने के काम भले ही न आये, पर आग बुझाने के काम तो आ ही जाता है| 

रघुविन्द्र यादव

Saturday, July 22, 2023

धरतीपुत्र मुलायम सिंह यादव का राजनैतिक जीवन : एक रोचक कृति

"धरतीपुत्र मुलायम सिंह यादव का राजनैतिक जीवन" अहीरवाल में जन्में और दौसा में सेवारत श्री राजेन्द्र यादव 'आजाद' द्वारा सम्पादित और राइजिंग स्टार्स, दिल्ली द्वारा प्रकाशित 248 पृष्ठों की एक ऐसी कृति है जिसमें स्वर्गीय मुलायम सिंह यादव के जीवन के विभिन्न पहलुओं पर उनके जानकारों, उनके सानिध्य में रहे लोगों और उनके प्रशंसकों द्वारा प्रकाश डाला गया है| इनमें कवि, शिक्षक, पत्रकार, राजनेता, डॉक्टर, वकील, इंजिनियर और सामान्यजन भी शामिल हैं| लेखक ने अधिकतर टिप्पणियाँ और आलेख सोशल मीडिया के माध्यम से संकलित किये हैं|
पुस्तक की शुरुआत कवि उदय प्रताप सिंह  की काव्यात्मक श्रद्धांजली से की गई है| इसके बाद धरतीपुत्र का जीवन परिचय, नेताजी का हिंदी के प्रचार-प्रसार में योगदान, पांच दशक का लम्बा सफ़र, शिक्षक से रक्षामंत्री तक का सफ़र आदि आलेख दिए गए हैं | 
संपादक राजेंद्र यादव ने मुलायम सिंह यादव के लगभग दो दर्जन किस्से स्वयं प्रस्तुत किये हैं, वहीं चन्द्र भूषण सिंह के हवाले से भी लगभग अढाई दर्ज़न नेताजी से जुडी बातों को स्थान दिया गया है| पुस्तक में लगभग 80 ऐसे लोगों के उद्गार भी शामिल किये गए हैं, जिन्होंने अपने निजी संस्मरण साझा किये हैं| इनमें पत्रकार राजीव रंजन, उर्मिलेश, वीर विनोद छाबड़ा, राजीव नयन बहुगुणा, योगेश यादव, हाफ़िज़ किदवई, समालोचक वीरेंदर यादव, केन्द्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव, डॉ. लाल रत्नाकर, लक्ष्मी प्रताप सिंह, सत्येन्द्र पी एस, रामप्रकाश यादव, कर्नल शरद सहारण, आवेश तिवारी, प्रख्यात चिकित्सक डॉ ओमशंकर यादव और अन्य बहुत से नामचीन लोगों द्वारा लिखे गए प्रसंग प्रकाशित किये गए हैं| 
पुस्तक में नेताजी के देहावसान के समय आये कुछ शोक संदेशों को भी स्थान दिया गया है, जिनमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पूर्व सांसद डॉ कर्णसिंह यादव, वेद प्रकाश मीना, राव बिजेंद्र सिंह (रानी की ड्योढ़ी), सोबरन सिंह, विजेंद्र सिंह मुंड, रमेश सिंह आदि के उदगार शामिल हैं| 
पुस्तक में जहाँ नेताजी मुलायम सिंह यादव के जीवन की तथ्यात्मक जानकारी उपलब्ध है, वहीं उनके द्वारा किये गए कार्यों का लाभार्थियों और प्रत्यक्ष्दार्शियों द्वारा उपलब्ध करवाया गया ब्यौरा भी उपलब्ध है| उनके जीवन के रोचक किस्सों ने पुस्तक को रोचक बना दिया है| पुस्तक में नेताजी के बहुत से छायाचित्रों को भी स्थान दिया गया है| जिनमें कहीं सेना के टैंक पर खड़े होकर सैनिकों से मिल रहे हैं तो कहीं चौधरी चरण सिंह और कासीराम जी के साथ नजर आ रहे हैं| कहीं परिवार के सदस्यों, कहीं अभिन्न मित्रों और कहीं राजनेताओं के साथ हैं| 
आवरण पर नेताजी का सुंदर रंगीन छायाचित्र पुस्तक को आकर्षक बना रहा है| राजेंद्र जी अगर थोड़ी मेहनत और कर लेते तो मुझे उम्मीद है, कुछ और अच्छे आलेख नेताजी के जानने वालों से मिल सकते थे और पुस्तक की सामग्री का और बेहतर वर्गीकरण किया जा सकता था| लेकिन वर्तमान स्वरुप में भी पुस्तक पठनीय और रोचक है| कैसे एक साधारण सा व्यक्ति धरतीपुत्र बन गया, यहाँ जानने के लिए यह पुस्तक पढ़ी जानी चाहिए|
इस श्रम साध्य कार्य के लिए राजेंद्र यादव 'आजाद' बधाई के पात्र हैं|