विश्व के 66 रचनाकारों द्वारा लिखे गए उपन्यास "खट्टे मीठे रिश्ते" का लोकार्पण

संजय कुमार गिरि 
नयी दिल्ली, 29 नवम्बर| विश्व हिंदी संस्थान कनाडा.के संस्थापक प्रो.सरन घई द्वारा संपादित उपन्यास "खट्टे मिट्ठे-रिश्ते" का लोकार्पण रेलवे ऑफिसर्स क्लब पी के मार्ग, नई दिल्ली में "युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच " के बनैर तले आयोजित किया गया ! इस अनूठे उपन्यास को विश्व के 66 रचनाकारों द्वारा लिखा गया है ! मंच की अध्यक्षता प्रो.विश्वम्भर शुक्ल ने की मुख्य अतिथि प्रो सरन घई एवं विशिष्ट अतिथि श्याम नंदा नूर एवं रमेश सिद्धार्थ रहे !
प्रो.सरन घई ने अपने वक्तव्य में कहा कि रिश्ते मेरे लिए कोतुहाल का विषय रहे हैं, परिवारों में रिश्तेदारों को एक दूसरे के लिए अपनी जान तक कुर्बान करते देखा है और भाई-भाई को जमीन जायजाद के लिए लड़ते हुए भी देखा है, बहु को पूरे परिवार की सेवा करते भी देखा है और सासों को सांस लेना भी मुहाल करते देखा और इसके विपरीत सास को बुढापे में खटते हुए भी देखा है और बहु को सिंघासन पर विराजमान होकर हुकुम देते हुए भी देखा है कहने का तात्पर्य यह है कि मैंने रिश्तों के कई रंग देखे हैं तो सोचा क्यूँ न इक परिवार ऐसा भी बनाया जाए जो विश्व के विभिन्न कोनो में बैठा हो और कोई किसी को जानता तक न हो और न पहचानता हो फिर भी एक परिवार का अंग, सच्चा रिश्तेदार बने, इन रिश्तेदारों को खोजने का माध्यम मैंने फेसबुक को चुना और रच दिया एक इतिहास जो इससे पहले कभी नहीं हुआ वह मैंने विश्व के 66 रचनाकारों द्वारा विश्व का एक अनूठा उपन्यास "खट्टे मीठे रिश्ते" ! 
प्रो .सरन घई ने इसको अपनी वैश्विक पहचान दिलवाने के लिए "गिनिस बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकोर्ड" के अधिकारियों को भी लिख चुके हैं इस अवसर पर 66 रचनाकारों में से कुछ रचनाकारों को सम्मान पत्र एवं पुष्पमाला पहना कर सम्मानित भी किया गया जिनमें डॉ दमयन्ती शर्मा "दीपा", पीयूष कुमार द्विवेदी "पुतू", डॉ.पुष्पा जोशी, आरती शर्मा, निर्देश शर्मा, सुरेश पाल वर्मा, संजय कुमार गिरि, ओम प्रकाश शुक्ल प्रमुख रूप से उपस्थित थे !

No comments:

Post a Comment